राजस्थान में सूर्य नमस्कार, प्रार्थना, चिंतन होगा जरुरी

GoTvNews
सूर्य नमस्कार करते बच्चे
जयपुर: प्रदेश के सरकारी स्कूूलों में वसुंधरा सरकार ने सूर्य नमस्कार और ध्यान शुरू करवा दिया है। इस संबंध में शिक्षा विभाग ने आदेश जारी कर दिए है। हालांकि शुरूआत में सूर्य नमस्कार और ध्यान केवल मॉडल स्कूलों में शुरू किया जाएगा लेकिन उसके बाद इसे सभी स्कूलों में अनिवार्य किया जाएगा। शिक्षा मंत्री वसुदेव देवनानी के अनुसार सूर्य नमस्कार और ध्यान से हमारे स्टूडेंट्स शारीरिक और मानसिक रूप से मजबूत होंगे इसे सेकंडरी और सीनियर सेकंडरी क्लास के स्टूडेंट करेंगे। सेकंडरी एजुकेशन ऑफिस के डायरेक्टर की तरफ से इस मामले में स्कूलों को निर्देश भेजा गया है। इस निर्देश में कहा गया है कि सभी सेकंडरी और सीनियर सेकंडरी स्कूल 20 मिनट हर दिन बाल सभा का आयोजन करेंगे। इस 20 मिनट में सूर्य नमस्कार, चिंतन और अखबार पाठ जैसी गतिविधियां शामिल होंगी। यह आदेश तत्काल प्रभाव से 48,000 स्कूलों में लागू होगा। इनमें 28,000 सरकारी स्कूल भी शामिल हैं। मध्य प्रदेश सरकार ने भी इसी तरह के निर्देश स्कूलों को दिए थे। राजस्थान सरकार ने भी मध्य प्रदेश की लाइन पर चलते सूर्य नमस्कार की राह अपना ली। 20 मिनट में 5 मिनट प्रार्थना, राष्ट्रीय गीत, शपथ और ग्रुप सॉन्ग के लिए है। आखिरी 10 मिनट सूर्य नमस्कार, योग, चिंतन और इंग्लिश, हिन्दी अखबार पढ़ने खातिर है। सेकंडरी एजुकेशन के डायरेक्टर सुवालाल ने कहा, 'इस आदेश का टारगेट मानसिक और शारीरिक फिटनेस के साथ एजुकेशन माहौल सुधारना है। हालांकि मध्य प्रदेश सरकार ने केवल सरकारी स्कूलों में सूर्य नमस्कार लागू करवाया है। राजस्थान सरकार ने एक कदम आगे बढ़ते हुए इस दायरे में सरकारी स्कूलों को भी शामिल कर लिया
Tags: , , , , , ,

0 comments

Leave a Reply