दिल्ली में बजा चुनावी बिगुल



GoTvNews

नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली में चुनावी बिगुल बज गया है। चुनाव आयोग ने दिल्ली में चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया है। दिल्ली की 70 सीटों के लिए 7 फरवरी को वोट डाले जाएंगे और वोटों की गिनती 10 फरवरी को होगी। दिल्ली में इस बार मुकाबला बीजेपी, एएपी और कांग्रेस के बीच है।

मुख्य चुनाव आयुक्त वी एस संपत के ऐलान के साथ ही दिल्ली में चुनावी लड़ाई का शंखनाद हो गया। करीब एक साल तक बगैर सरकार के रही दिल्ली एक बार फिर नई सरकार चुनने के लिए तैयार है। पिछली बार की तरह इस बार भी मुकाबला बीजेपी, एएपी और कांग्रेस के बीच है। चुनाव आयोग के मुताबिक पूरी चुनावी प्रक्रिया 15 फरवरी के पहले पूरी कर ली जाएगी।

7 फरवरी को दिल्ली की 70 सीटों के लिए वोट डाले जाएंगे। 10 फरवरी को वोटों की गिनती होगी और नतीजे आएंगे। 21 जनवरी को नामांकन की आखिरी तारीख है। नाम वापस लेने की अंतिम तारीख 24 जनवरी है।

चुनाव की तारीखों का ऐलान होने के साथ ही दिल्ली में आचार संहिता लागू हो गई है। चुनाव खर्च पर नजर रखने के लिए पर्यवेक्षकों की नियुक्ति की गई है। एक जनवरी 2015 तक 18 साल के हो चुके युवा भी इस बार अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर सकेंगे बशर्ते कि उनका नाम वोटर लिस्ट में हो।

दिल्ली के एक करोड़ 30 लाख मतदाता अपने अधिकार का इस्तेमाल करेंगे। मतदान के लिए 11,763 पोलिंग बूथ बनाए गए हैं। मतदाताओं के पास NOTA यानी किसी को भी नहीं चुनने का भी अधिकार होगा। दिल्ली की 70 में 12 सीटें आरक्षित हैं।

चुनाव की तारीखों का ऐलान होते ही सभी सियासी दलों ने कमर कस ली है। दिसंबर 2013 में हुए विधानसभा चुनाव में किसी भी दल को बहुमत नहीं मिला था। बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी थी, जबकि एएपी दूसरे नंबर पर थी। पिछली बार बीजेपी को 32, एएपी को 28, कांग्रेस को 8 और अन्य को 2 सीटें मिली थीं।

इस बार भी बीजेपी और एएपी में टक्कर की उम्मीद है। लेकिन बीते एक साल में देश का सियासी माहौल तेजी से बदला है। केंद्र में बीजेपी की बहुमत वाली सरकार है और पीएम मोदी के नेतृत्व में बीजेपी ने चार राज्यों में शानदार जीत हासिल की है।

आम आदमी पार्टी ने ने सभी 70 सीटों पर उम्मीदवारों के नाम का ऐलान कर दिया है। वहीं बीजेपी ने अब तक अपना एक भी उम्मीदवार तय नहीं किया है। कांग्रेस ने भी 24 उम्मीदवारों के नाम ऐलान कर दिया है। रेडियो पर BJP बनाम AAP का मुकाबला जोर-शोर से चल रहा है। BJP ने मोदी की बड़ी रैली कर चुनावी बिगुल फूंका। रैली में मोदी ने दिल्ली से किए कई वादे। पीएम मोदी ने किया 24 घंटे बिजली का वादा। 2022 तक सभी झुग्गी बस्तियों को पक्के मकान में बदलने का भी वादा किया है।

दिल्ली के एक करोड़ 30 लाख मतदाता अपने अधिकार का इस्तेमाल करेंगे। मतदान के लिए 11,763 पोलिंग बूथ बनाए गए हैं। मतदाताओं के पास NOTA यानी किसी को भी नहीं चुनने का भी अधिकार होगा। दिल्ली की 70 में 12 सीटें आरक्षित हैं।

चुनाव की तारीखों का ऐलान होते ही सभी सियासी दलों ने कमर कस ली है। दिसंबर 2013 में हुए विधानसभा चुनाव में किसी भी दल को बहुमत नहीं मिला था। बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी थी, जबकि एएपी दूसरे नंबर पर थी। पिछली बार बीजेपी को 32, एएपी को 28, कांग्रेस को 8 और अन्य को 2 सीटें मिली थीं।

इस बार भी बीजेपी और एएपी में टक्कर की उम्मीद है। लेकिन बीते एक साल में देश का सियासी माहौल तेजी से बदला है। केंद्र में बीजेपी की बहुमत वाली सरकार है और पीएम मोदी के नेतृत्व में बीजेपी ने चार राज्यों में शानदार जीत हासिल की है।

आम आदमी पार्टी ने ने सभी 70 सीटों पर उम्मीदवारों के नाम का ऐलान कर दिया है। वहीं बीजेपी ने अब तक अपना एक भी उम्मीदवार तय नहीं किया है। कांग्रेस ने भी 24 उम्मीदवारों के नाम ऐलान कर दिया है। रेडियो पर BJP बनाम AAP का मुकाबला जोर-शोर से चल रहा है। BJP ने मोदी की बड़ी रैली कर चुनावी बिगुल फूंका। रैली में मोदी ने दिल्ली से किए कई वादे। पीएम मोदी ने किया 24 घंटे बिजली का वादा। 2022 तक सभी झुग्गी बस्तियों को पक्के मकान में बदलने का भी वादा किया है।
Tags: , , , , , , ,

0 comments

Leave a Reply