फिक्स था 1996 का सेमीफाइनल:विनोद कांबली


GoTvNews
नई दिल्ली.भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व खिलाड़ी विनोद कांबली ने आज स्टार न्यूज के एक कार्यक्रम में सनसनीखेज खुलासा करते हुए कहा कि उन्हें शक है कि 1996 में श्रिलंका के खिलाफ खेला गया ऐतिहासिक सेमीफाइनल, जिसमें टीम इंडिया बुरी तरह हार गई थी, फिक्स था।

अजहरउद्दीन की कप्तानी में खेले इस मैच में भारत बुरी तरह हार गया था। श्रीलंका ने पहले खेलते हुए 251 रन बनाए थे। जवाब में भारत ने आठ विकेट के नुकसान पर मात्र 120 रन बनाए थे और दर्शकों के हंगामे के चलते श्रीलंका को विजेता घोषित कर दिया गया था। भारत की ओर से अकेले सचिन तेंदुलकर ने 65 रन बनाए थे जबकि कांबली 10 रन बनाकर नाबाद रहे थे।
फिक्सिंग के आरोप झेल रहे पूर्व भारतीय कप्तान अजहउद्दीन और अजय जडेजा दोनों ही इस मैच में जीरो पर आउट हुए थे। विनोद कांबली ने यह भी कहा कि भारत ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला लिया था जिसे बदल दिया गया था और अजहरउद्दीन ने श्रीलंका को पहले खेलने के लिए आमंत्रित कर दिया था।
विनोद कांबली ने कहा कि उन्हें हमेशा ही लगता रहा है कि ऐसा हो सकता है कि यह सेमीफाइनल जिसमें भारत बुरी तरह हारा था फिक्स था। गौरतलब है कि इस मैच में भारत के लगातार विकेट गिरने से हताश दर्शकों के हंगामें के बाद मैच स्थगित होने पर विनोद कांबली रोने लगे थे। आज स्टार न्यूज पर यह सनसनीखेज बयान देते वक्त भी विनोद कांबली रो पड़े।
कांबली के आरोप पर प्रतिक्रिया देते हुए अजित वाडेकर ने कहा कि मैच से पिछली रात में हुई टीम मीटिंग में फैसला लिया गया था कि भारत पहले फील्डिंग करेगा। अजित वाडेकर उस समय टीम के मैनेजर थे। वाडेकर ने कहा कि श्रीलंका ने आस्ट्रेलिया को भी हराया था और वो सच में चेंपियन था। अजित वाडेकर ने कहा कि उन्हें इस मैच पर कोई शक नहीं है।
विनोद कांबली ने यह भी आरोप लगाया है कि अहम सेमीफाइनल से पहले उस समय टीम के मैनेजर अजित वाडेकर और कप्तान अजहरउद्दीन के बीच अनबन भी हुई थी और अजित वाडेकर होटल छोड़कर घर वापस जा रहे थे। कांबली ने यह भी आरोप लगाया कि अजहर ने अपने बेहद व्यक्तिगत काम के चलते मैच से पहले टीम प्रैक्टिस रोक दी थी। टीम के सभी खिलाड़ी हैरान थे कि इतनी जल्दी प्रैक्टिस क्यों खत्म की गई। प्रैक्टिस रद्द करने के कारण ही अजित वाडेकर और अजहरउद्दीन के बीच अनबन हुई थी। हालांकि विनोद कांबली ने यह खुलासा नहीं किया कि अजहर अपने किस व्यक्तिगत काम से गए थे।

विनोद कांबली ने यह भी कहा कि इस मैच में रोने की वजह से उनका पूरा करियर समाप्त कर दिया गया। विनोद ने आरोप लगाया कि भारत एक समय मजबूत स्थिति में खेल रहा था। एक समय टीम का स्कोर 98 रन पर एक विकेट था और उसके बाद आठ विकेट 120 रन के स्कोर तक गिर गए। 98 रन के स्कोर पर सचिन के आउट होते ही सभी बल्लेबाज एक के बाद एक गिरते चले गए। विनोद ने कहा कि मुझे विकटों के गिरने पर शक है।
Tags: , ,

0 comments

Leave a Reply