सभी दलो ने की पवार पर हमले की निन्दा


GoTvNews
गुरुवार को कृषिमंत्री पर हुए हमले की सभी पार्टीयो के नेताओ ने निन्दा की|शुक्रवार को सदन के शुरु होने पर सभी पार्टीयो के नेताओ ने इस घटना की घोर निन्दा की|प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और राजनीतिक दलों ने इस घटना की निंदा करते हुए कहा कि लोकतंत्र में इस तरह की घटना का कोई स्थान नहीं है। इस घटना के बाद डा. सिंह ने श्री पवार से फोन पर बात कर उनका कुशल क्षेम पूछा। भारतीय जनता पार्टी ने इस घटना की कडी निंदा करते हुए कहा कि उसने कभी भी राजनीति में हिंसा का समर्थन या वकालत नहीं की। लोकसभा में विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज ने कहा कि श्री पवार सौम्य और अच्छे व्यक्ति है और भाजपा इस घटना की निंदा करती है। कांग्रेस ने इस घटना के लिए भाजपा नेता यशवंत सिन्हा के इस बयान को जिम्मेदार ठहराया है, जिसमें उन्होंने महंगाई पर अंकुश नहीं होने की हालत में लोगों के हिंसा पर उतारू होने की चेतावनी दी थी। कांग्रेस प्रवक्ता राशिद अल्वी ने श्री सिन्हा के बयान को दुर्भाग्यपूर्ण बताया। उन्होंने कहा कि आज की यह घटना निंदनीय है और लोकतंत्र में ऐसा नहीं होना चाहिए। केन्द्रीय संसदीय और जल संसाधन मंत्री पवन बंसल ने भी इस घटना की कडी निंदा करते हुए इसे कायरतापूर्ण करार दिया। वामपंथी दलों ने भी इस घटना की निंदा की है। राक्रांपा सांसद और श्री पवार की पुत्री सुप्रिया सुले ने अपनी पार्टी से इस घटना की अनदेखी करने और हमलावर को माफ कर देने की अपील की है।इस बीच राकांपा के उत्तेजित कार्यकर्ताओं द्वारा इस घटना की खबर सुनने के बाद महाराष्ट्र के जलगांव जिले में राज्य परिवहन की एक बस जलाए जाने की रिपोर्ट सामने आई है। राज्य परिवहन बस के अध्यक्ष सुधाकर परिचालक ने मुम्बई में आज शाम घोषणा की कि राज्य में हिंसक घटनाओं को देखते हुए आज तथा कल सडकों पर बसें न चलाने जाने का निर्णय लिया गया है। गौरतलब है कि जब श्री पवार महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री थे, तब श्री हजारे ऐसे पहले सामाजिक कार्यकत्र्ता थे, जिन्होंने उनके खिलाफ आंदोलन चलाया था।
Tags: , ,

0 comments

Leave a Reply