खंडूरी ने फिर ली शपथ, निशंक का इस्तीफा

खंडूरी ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली तो निशंक की विदाई हो गई। उत्तराखंड की राजधानी में जोरदार राजनीतिक उठापटक जारी रही। मुख्यमंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने राजभवन पहुंचकर राज्यपाल मार्गेट अल्वा को अपना इस्तीफा पत्र सौंप दिया। निशंक की जगह भुवन चन्द्र खंडूरी ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। इससे पहले उन्हें ध्वनि मत से बीजेपी विधायक दल का नेता चुना गया।

उत्तराखंड में बीजेपी विधायक दल की बैठक के बाद निशंक अपने मंत्रिमंडल के सहयोगियों बंशीधर भगत, मदन कौशिक, खजान दास और गोविन्द सिंह बिष्ट के साथ राजभवन पहुंचे और अल्वा को अपना इस्तीफा सौंप दिया। राजभवन सूत्रों ने बताया कि अल्वा ने निशंक को अपनी शुभकामनाएं देते हुए उनके कार्यों की प्रशंसा की। निशंक के स्थान पर भुवन चन्द्र खंडूरी ने नए मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली।

गौरतलब है कि शनिवार को पार्टी अध्यक्ष नितिन गडकरी ने कहा था कि निशंक की घटती लोकप्रियता के कारण पार्टी को चुनावों से पहले यह निर्णय लेना पड़ा है। हालांकि, गडकरी ने कहा कि निशंक को पार्टी में बड़ी जिम्मेदारी दी जाएगी। खंडूरी ने सवा दो साल बाद एक बार फिर मुख्यमंत्री की कमान संभाली है। लोकसभा चुनाव में उत्तराखंड में बीजेपी की हार के बाद खंडूरी को इस्तीफा देना पड़ा था। उत्तराखंड की सभी लोकसभा सीटों पर हार की जवाबदेही खंडूरी पर डाल दी गई थी। यही नहीं तब पार्टी के अंदर भी उनके खिलाफ बगावत हो गई थी। राज्य के 8 विधायकों ने खंडूरी को हटाने के लिए इस्तीफा दे डाला था। खंडूरी के इस्तीफे के बाद रमेश पोखरियाल निशंक को सीएम बनाया गया। निशंक के कार्यकाल में बीजेपी सरकार पर करप्शन के कई आरोप लगे। हालांकि गडकरी ने इन आरोपों की मीडिया की चर्चा बताकर खारिज करते हुए कहा कि निशंक पर कोई आरोप नहीं है। उन्हें दूसरी अहम जिम्मेदारी सौंपने की बात भी गडकरी ने कही।
Tags: , , ,

0 comments

Leave a Reply