शम्मी पंचतत्व में विलीन


बालावुड के मशहूर अभिनेता शम्मी कपूर सोमवार को पंचतत्व में विलीन हो गए. दोपहर क़रीब सवा बारह बजे उनके बेटे आदित्य राजकपूर ने उन्हें अग्नि दी.

याहू मैन अंतिम यात्रा में कपूर परिवार के सदस्यों रणधीर कपूर, ऋषि कपूर, राजीव कपूर, रणबीर कपूर के अलावा अमिताभ बच्चन, आमिर ख़ान, यश चोपड़ा, अनिल कपूर और अनिल अंबानी जैसी हस्तियां भी शामिल हुई.

शम्मी जी के छोटे भाई शशि कपूर बहुत बीमार होने के बावजूद अपने बड़े भाई को श्रद्धांजलि देने श्मशान भूमि पहुंचे. वो व्हील चेयर पर थे.

इसके अलावा शत्रुघ्न सिन्हा, प्रियंका चोपड़ा, माधुरी दीक्षित, कबीर बेदी और सतीश कौशिक ने भी श्मशान भूमि पहुंचकर 50 और 60 के दशक के इस मस्तमौला कलाकार को श्रद्धांजलि दी.

शम्मी कपूर का अंतिम संस्कार उसी श्मशान भूमि में किया गया जहां उनकी पहली पत्नी गीता बाली का अंतिम संस्कार किया गया था.
शम्मी कपूर की अंतिम यात्रा
शम्मी कपूर

दोपहर सवा बारह बजे पंचतत्व में विलीन
अंतिम यात्रा में कपूर परिवार के अलावा अमिताभ बच्चन,आमिर ख़ान,यश चोपड़ा, अनिल अंबानी शामिल
शत्रुघ्न सिन्हा, अनिल कपूर, माधुरी दीक्षित, प्रियंका चोपड़ा, कबीर बेदी ने श्रद्धांजलि दी
शशि कपूर बीमार होने के बावजूद व्हील चेयर पर अपने बड़े भाई को श्रद्धांजलि देने पहुंचे

उनकी अंतिम यात्रा सुबह 10 बजकर 45 मिनट पर मुंबई के मालाबार हिल्स स्थित उनके घर से शुरु हुई. उनके बड़े भाई दिवंगत राज कपूर की पत्नी श्रीमती कृष्णा राज कपूर अपने देवर को आख़िरी विदाई देने घर के गेट तक आईं.

बड़ी संख्या में शम्मी कपूर के प्रशंसकों ने सड़क किनारे खड़े होकर अपने इस चहेते सितारे को अंतिम सलाम पेश किया. शवयात्रा के दौरान अमिताभ बच्चन और अनिल अंबानी गाड़ी से उतरकर पैदल चलते रहे और भीड़ को काबू में करते दिखे.
नहीं हो सकता दूसरा शम्मी कपूर ?

शम्मी जी बेहतरीन कलाकार और महान इंसान थे. उन्हें कभी भुलाया नहीं जा सकता. दूसरा शम्मी कपूर कभी नहीं आ सकता.

यश चोपड़ा, निर्माता-निर्देशक

इस दौरान सभी लोग काफ़ी ग़मगीन दिखे. मशहूर निर्माता निर्देशक यश चोपड़ा ने बड़ी मुश्किल से अपने आपको संभालते हुए कहा, "शम्मी जी बेहतरीन कलाकार और महान इंसान थे. उन्हें कभी भुलाया नहीं जा सकता. दूसरा शम्मी कपूर कभी नहीं आ सकता."

शम्मी कपूर, अपने पोते रणबीर कपूर के साथ इम्तियाज़ अली की फ़िल्म रॉकस्टार में भी काम कर रहे थे.

निर्देशक सुभाष घई हाल ही में शम्मी जी के साथ हुई अपनी मुलाक़ात को याद करते हुए कहते हैं, "वो बहुत ही रोमांच से रॉकस्टार की शूटिंग का अनुभव बता रहे थे. मैं हैरान था कि इतनी उम्र होने के बावजूद उन्हें फ़िल्मों में काम करने को लेकर बिलकुल बच्चों जैसा उत्साह था."

अभिनेत्री माधुरी दीक्षित के मुताबिक़ वो बचपन से ही शम्मी जी की प्रशंसक थीं. और जब भी शम्मी कपूर से उनकी मुलाक़ात होती थी वो बड़ी ग़र्मजोशी से मिलते थे. 'तीसरी मंज़िल' माधुरी की पसंदीदा फ़िल्मों में से एक है.
Tags:

0 comments

Leave a Reply