राहुल बिग्रेड ने संभाली कमान

अन्ना हजारे के मामले में यूपीए सरकार द्वारा एक के बाद एक गलतियां करते चले जाने का सिलसिला कांग्रेस के यूथ ब्रिगेड ने परदे के पीछे से कमान संभालकर रोक लिया। कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी की पहल के बाद सरकार को अपनी 'देखो और इंतजार करो' की निष्क्रिय नीति को छोड़ना पड़ा। दिल्ली की मुख्यमंत्री के सांसद बेटे संदीप दीक्षित और युवा केन्द्रीय मंत्री सचिन पायलट ने इसमें विशेष भूमिका निभाई। नवीन जिंदल, मिलिंद देवड़ा जैसे युवा सांसदों ने आंदोलन से जुड़े फीडबैक को राहुल तक पहुंचाया। राहुल द्वारा मिशन अन्ना संभालते ही केन्द्रीय मंत्री और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री विलासराव देशमुख, जो अब तक परदे के पीछे से काम कर रहे थे, गुरुवार को सीधे रामलीला मैदान में दिखे। राहुल ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से भी बात की। उसके बाद सोनिया ने अमेरिका से हजारे से अनशन समाप्त करने की अपील की। राहुल ने भी अन्ना के स्वास्थ्य पर चिंता जताई।
हांलाकि इससे पहले संसद से निकलते समय पत्रकारों ने जब राहुल से अन्ना के अनशन के बारे में पूछा तो उन्होंने सवाल को अनसूना कर दिया और बिना बोले ही चलते बने।
Tags: , ,

0 comments

Leave a Reply