पुलिस उठाएं तो रोकना मत-अन्ना

जन लोकपाल पर सरकार और टीम अन्ना की बात फेल होने के बाद अब अन्ना हजारे को कभी भी उठाया जा सकता है। अन्ना हजारे ने कहा कि अगर पुलिस मुझे लेने आए, तो विरोध न करें। सरकार यही चाहती है। यह सरकार की साजिश है। उन्होंने कहा कि अगर पुलिस मुझे उठाती है, तो सुबह से जेल भरो आंदोलन शुरू कर दें।

बुधवार रात करीब सवा 11 बजे प्रणव मुखर्जी से बात कर लौटे अरविंद केजरीवाल, किरन बेदी और प्रशांत भूषण से मुलाकात के बाद अन्ना हजारे ने तीसरी बार लोगों को मंच से संबोधित किया।

उन्होंने लोगों से तोड़फोड़ न करने की अपील की और अहिंसक तरीके से आंदोलन करने की अपील की। उन्होंने कहा कि देश कि कोई भी जेल खाली न रहे। इसके बाद अन्ना हजारे ने भारत माता की जय और इंकलाब जिंदाबाद के नारे लगाए। इससे पहले अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पुलिस अन्ना को रात चार बजे उठा सकती है।

हालांकि किरन बेदी ने कहा कि उन्हें पुलिस के आला अधिकारियों से संदेश मिला है कि जब तक अन्ना की हालत गंभीर न घोषित की जाए, तब तक उन्हें नहीं उठाया जा सकता। उन्होंने कहा कि अन्ना की हालत ऐसी नहीं है। इसलिए उन्हें उम्मीद नहीं है कि पुलिस रामदेव के बाद ऐसी गलती करेगी। इससे पहले सरकार और हजारे पक्ष के बीच टकराव उस वक्त बढ़ गया जब बेदी ने दावा किया था कि गांधीवादी सामाजिक कार्यकर्ता को पुलिस जबरन रामलीला मैदान से उठा सकती है। बेदी ने ट्विटर पर लिखा, 'ऐसी भरोसेमंद सूचना है कि अन्ना को जबरन हटाया जा सकता है।' पर बाद में बेदी ने दावा किया कि उन्हें दिल्ली के पुलिस आयुक्त से एसएमएस मिला है कि हजारे को तब तक नहीं हटाया जाएगा जब तक कि डॉक्टर्स उनकी स्थिति गंभीर नहीं घोषित कर देते।


Tags: ,

0 comments

Leave a Reply